50 जिले…एक लाख किमी का सफर, पसमांदा मुसलमानों को बीजेपी के करीब लाने की कोशिश में जुटे योगी के मंत्री दानिश आजाद अंसारी

एक साल के अपने कार्यकाल के दौरान दानिश आजाद अंसारी प्रदेश के 50 जिलों में एक लाख किमी से अधिक की यात्रा कर चुके हैं.

danish azad ansari

अल्पसंख्यक राज्यमंत्री दानिश आजाद अंसारी

UP Politics: आगामी लोकसभा चुनावों से पहले भारतीय जनता पार्टी पसमांदा मुसलमानों और बोहरा मुस्लिमों के बीच अपनी पकड़ मजबूत बनाने के लिए लगातार अभियान चला रही है. कुछ महीनों पहले हैदराबाद में हुई बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं को स्पष्ट संदेश दिया था कि कोई वोट दे या न दे, लेकिन संपर्क सभी लोगों से बनाया जाए. इसी क्रम में भारतीय जनता पार्टी ने यूपी निकाय चुनाव से पहले पसमांदा मुसलमानों को जोड़ने की मुहिम शुरू की है और इसकी कमान यूपी के अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री दानिश आजाद अंसारी संभाल रहे हैं.

योगी सरकार में मंत्री दानिश आजाद अंसारी पसमांदा मुसलमानों को पार्टी से जोड़ने की इस मुहिम के दौरान सूबे के 50 जिलों का दौरा कर चुके हैं. इस दौरान उन्होंने बलिया से लेकर मुजफ्फरनगर तक 50 जिलों में पसमांदा समुदाय के लोगों से मुलाकात की है. पसमांदा मुसलमान समुदाय के लोगों से बातचीत के दौरान मंत्री ने योगी सरकार और केंद्र की मोदी सरकार की विभिन्न योजनाओं से अवगत कराते हुए उन्हें इन योजनाओं से मिलने वाले लाभ से भी अवगत कराया है.

पसमांदा मुसलमानों को जोड़ने की बीजेपी चला रही मुहिम

पसमांदा समुदाय, मुसलमानों में सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक और शैक्षणिक तौर पर पिछड़े हैं और भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें मुख्य धारा से जोड़ने की कवायद शुरू की है. बीजेपी सरकार द्वारा चलाई जा रही जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ इस समुदाय के लोगों को मिले, इसके लिए पार्टी अलग-अलग जिलों में भी अभियान चला रही है. पिछले साल बीजेपी की अल्पसंख्यक शाखा ने पसमांदा मुस्लिम समुदाय के बुद्धजीवियों का एक सम्मेलन भी आयोजित किया था.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस-बीजेपी में वीडियो वॉर, BJP ने मनमोहन सरकार पर लगाए कई गंभीर आरोप तो कांग्रेस पूछ रही है अडानी से PM मोदी का रिश्ता?

किसी के साथ नहीं हुआ भेदभाव- दानिश आजाद अंसारी

एक साल के अपने कार्यकाल के दौरान दानिश आजाद अंसारी प्रदेश के 50 जिलों में एक लाख किमी से अधिक की यात्रा कर चुके हैं. अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री का कहना है कि प्रदेश की भाजपा सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाने में कहीं भी भेदभाव नहीं हुआ. राज्यमंत्री खुद भी पसमांदा समुदाय से आते हैं और ऐसे में उनकी कोशिश है कि इस समुदाय के अधिक से अधिक लोगों को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिले. इसके लिए वह लगातार पसमांदा समुदाय से बुद्धजीवियों के साथ मीटिंग करते रहे हैं.

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read