UK Global Investors Summit: उत्तराखंड ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में अडानी ने खोला पिटारा

ऐसा नहीं है कि उतराखंड में विकास की रुपरेखा नहीं खींची गई है लेकिन अडानी ने बेहतरीन इन्फ्रास्ट्रक्चर प्लानिंग निवेश की घोषणा करके यहां के विकास की लकीर को और बड़ा कर दिया है.

UK Global Investors Summit:   उत्तराखंड मे दो दिवसीय ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का आगाज हो गया है.कार्यक्रम का शुभारंभ पीएम मोदी ने किया.इस दौरान सबसे पहले अडानी ग्रुप ने उत्तराखंड में बड़े निवेश का ऐलान किया.सम्मेलन में पहुंचे अडानी एंटरप्राइज के निदेशक प्रणव अडानी ने आमंत्रित करने के लिए प्रदेश सरकार का आभार व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि देहरादून मेरे दिल में एक खास जगह रखता है.उन्होंने देहरादून ही नहीं पूरे उत्तराखंड को भौतिक और आध्याधमिक अनुभवों का खजाना बताया. उन्होंने कहा कि “पृथ्वी पर कोई और स्थान इतने सारे पवित्र स्थलों का प्रवेश द्वार होने का दावा नहीं कर सकता.इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि लोग उत्तराखंड को ‘देवभूमि’ कहते हैं. उत्तराखंड अब निजी क्षेत्र के निवेश के लिए भारत के सबसे आकर्षक प्रवेश द्वारों में से एक बन गया है,क्योंकि पिछले पांच सालों में विकास और राज्य की स्थिति के दृष्टिकोण से तेजी से बदलाव देखा गया है.

उन्होंने इसके लिए सिंगल पॉइंट क्लियरेंस, जमीन की वाजिब कीमतें, सस्ती बिजली और बेहतर डिस्ट्रिब्यूशन, कुशल कामगार,राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र से करीबी और बेहतरीन कानून-व्यवस्था के माहौल को कारण बताया. उनके मुताबिक वर्तमान अडानी समूह उत्तराखंड में गैस ड्रिस्ट्रिब्यूशन और सीमेंट मैन्युफैक्चरिंग तक फैली हुई है. प्रणव अडानी के अनुसार, इंडियन ऑयल और अडानी टोटल गैस के जॉइंट वेंचर, IOAGPL के माध्यम से अडानी डोमेस्टिक, कमर्शियल और इंडस्ट्रियल सभी ग्राहकों को प्राकृतिक गैस पहुंचा रहे हैं. इसके अलावा,स्वच्छ ईंधन को सर्वसुलभ बनाने के अडानी समूह 200 स्टेट ट्रांसपोर्ट बसों को पर्यावरण-अनुकूल सीएनजी बसों में बदलने में योगदान दे रहा है.इसके साथ ही उत्तराखंड में अडानी समूह ने अंबुजा सीमेंट्स की मौजूदा क्षमता को बढ़ाने के लिए 1700 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करेगा, इसके अलावा रूड़की प्लांट की क्षमता को मौजूदा 1.2 मिलियन टन प्रति वर्ष से अगले साल के आखिर तक 3 मिलियन टन प्रति वर्ष तक ले जाने के लिए 300 करोड़ रुपये का निवेश होगा, साथ 4 मिलियन टन प्रति वर्ष की क्षमता वाली ग्राइंडिंग यूनिट बनाने के लिए लगभग 1400 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा. इस बड़े निवेश से उम्मीद की जा रही है कि ऋषिकेश-देहरादून क्षेत्र में करीब 6 हजार प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार के अवसर पैदा होंगे.

यह भी पढ़ें: ‘हार के बाद EVM का मुद्दा उठाना ठीक नहीं..’, दिल्ली में बोले कांग्रेस नेता सिंहदेव; छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल ने उठाए थे सवाल

साथ ही, कुमाऊं क्षेत्र में उत्तराखंड पावर कॉर्पोरेशन के साथ पारंपरिक बिजली मीटर को स्मार्ट प्रीपेड मीटर से बदलने के लिए 800 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजना शुरू की गई है. ऐसा नहीं है कि उतराखंड में विकास की रुपरेखा नहीं खींची गई है लेकिन अडानी ने बेहतरीन इन्फ्रास्ट्रक्चर प्लानिंग निवेश की घोषणा करके यहां के विकास की लकीर को और बड़ा कर दिया है. अडानी समूह अब पंतनगर में 1 हजार एकड़ जमीन के विकास की संभावना भी तलाश रहा हैं. इन संभावनाओं में एयरो-सिटी, अंतर्देशीय कंटेनर डिपो, लॉजिस्टिक्स वेयरहाउसिंग और नॉलेज पार्क के लिए बुनियादी ढांचा शामिल है. इस कार्यक्रम में उत्तराखंड के माननीय मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी समेत उद्योग जगत की जानी-मानी हस्तियां भी मौजूद थी.

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read