Bharat Express

सोने के खास तरह के जड़ाऊ आभूषणों के आयात पर सरकार ने लगाया प्रतिबंध, जानें क्या पड़ सकता है असर

इंडोनेशिया और तंजानिया से इन वस्तुओं के आयात में वृद्धि हुई है. वहीं, भारत का इंडोनेशिया के साथ मुक्त व्यापार समझौता है.

Gold Inlay Jewellery

सांकेतिक फोटो-सोशल मीडिया

Gold Inlay Jewellery: रत्नों एवं कीमती पत्थरों से सुसज्जित कुछ खास तरह के स्वर्ण आभूषणों के आयात पर सरकार ने मंगलवार को प्रतिबंध लगा दिया है. इसके बाद से माना जा रहा है कि इसका सीधा असर इंडोनेशिया और तंजानिया से आयात होने वाले इस तरह के उत्पादों पर देखा जा सकता है. तो वहीं सोने के खास तरह के गहने खरीदने और स्टोन व डायमंड से जड़ी गोल्ड ज्वैलरी को खरीदने का शौक रखने वालों को भी इस खबर से झटका लग सकता है.

विदेश व्यापार महानिदेशालय ( Directorate General of Foreign Trade) ने एक नोटिफिकेशन में कहा है कि मोती के साथ ही कुछ खास तरह के हीरे और अन्य कीमती पत्थरों से जड़े सोने के आभूषणों की आयात नीति को तत्काल रूप से संशोधित कर दिया गया है. इसके तहत इन्हें मुक्त प्रतिबंधित कर दिया गया है.  इस तरह से सरकार ने कुछ खास तरह के सोने के गहनों के इंपोर्ट को मुक्त से अंकुश कैटेगरी में कर दिया है. यानी अब इस तरह के गहनों का आयात फ्री में नहीं होगा, बल्कि इसे रेस्ट्रिक्टेड कैटेगरी में सरकार ने डाल दिया है.

ये भी पढ़ें-Doda Terror Attack: जम्मू-कश्मीर पुलिस ने 4 आतंकवादियों के जारी किए स्केच, इन नम्बरों पर सूचना देने वाले को मिलेगा इतने लाख का इनाम

इसके अलावा विदेश व्यापार महानिदेशालय ने ये भी कहा है कि भारत-संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) मुक्त टैरिफ समझौते (India-UAE Free Tarde Agreement) के तहत वैध शुल्क दर कोटा (Tariff Rate Quota) में इन जड़ित स्वर्ण आभूषणों के आयात की मंजूरी होगी.

सरकार ने इसलिए लिया फैसला

जानकारों की मानें तो खास तरह की गोल्ड ज्वैलरी को फ्री से हटाकर रेस्ट्रिक्शन कैटेगरी में डालने को लेकर सरकार ने इसलिए फैसला लिया है क्योंकि बीते कुछ दिनों में इंडोनेशिया और तंजानिया से इस तरह के उत्पाद के आयात में भारी मात्रा में बढ़ोतरी देखने को मिली है. इस कारण घरेलू बिक्री पर नकारात्मक असर देखा गया. इसी के बाद मोदी सरकार ने घरेलू बाजार और घरेलू कारीगरों के हित को देखते ये बड़ा फैसला लिया है. हालांकि सरकार ने स्पष्ट किया है कि भारत और संयुक्त राष्ट्र अमीरात के बीच फ्री ट्रेड एग्रीमेंट के तहत टैरिफ रेट कोटा (टीआरक्यू) में इंपोर्ट ऑथराइजेशन के बावजूद भी इस तरह के जड़ाऊ गोल्ड ज्वैलरी के इंपोर्ट की मंजूरी लेनी होगी.

भारत के गोल्ड इंपोर्ट में लगातार हो रहा है इजाफा

मालूम हो कि भारत के गोल्ड इंपोर्ट लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है. भारत अपनी जरूरत का अधिक हिस्सा इंपोर्ट करता है. चीन के बाद भारत सोने का दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता है. वित्त वर्ष 2023-24 में भारत का सोने का आयात 30 प्रतिशत से बढ़कर 45.54 अरब डॉलर पर पहुंच गया. तो वहीं वित्त वर्ष 2022-23 में सोने का आयात 35 अरब डॉलर था. अगर ताजा रिपोर्ट देखें तो इस साल मार्च में सोने का आयात 1.53 अरब डॉलर रहा. बता दें कि स्विट्जरलैड सोने का सबसे बड़ा सोर्स है. कुल सोने के इंपोर्ट में इसकी हिस्सेदारी 40 प्रतिशत है.

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read