Bharat Express

PM Swearing in Ceremony: कल से दिल्ली में दो दिन के लिए नो फ्लाइंग जोन, लापरवाही पर होगी कड़ी कार्रवाई

इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे और अन्य संवेदनशील क्षेत्रों के पास ड्रोन और लेजर बीम गतिविधियों को रोकने के लिए भी निषेधाज्ञा लागू की गई है.

Narendra Modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (फोटो: IANS)

PM Swearing in Ceremony: पीएम नरेंद्र मोदी लगातार तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण करने जा रहे है. कार्यक्रम का आयोजन रविवार यानी 9 जून को होगा. इस दौरान दिल्ली की सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी रहेगी. सुरक्षा के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने रविवार से दो दिन (9 व 10 जून) तक राष्ट्रीय राजधानी को उड़ान प्रतिबंधित क्षेत्र (नो फ्लाइंग जोन) घोषित कर दिया है.

शपथ ग्रहण समारोह के दौरान पैरा- मोटर्स, पैराग्लाइडर, यूएवी, हैंग ग्लाइडर, हॉट एयर बलून, यूएएस, माइक्रोलाइट एयरक्राफ्ट और रिमोट से संचालित विमानों की उड़ान पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा. इस दौरान किसी भी तरह की लापरवाही या फिर निर्देश न माने जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

कार्यक्रम के दौरान बड़ी संख्या में तैनात रहेगी दिल्ली पुलिस

कार्यक्रम को लेकर दिल्ली पुलिस आयुक्त संजय अरोड़ा ने निषेधाज्ञा आदेश जारी करते हुए मीडिया को बताया कि ऐसी सूचना है कि भारत विरोधी कुछ आपराधिक, असामाजिक तत्व या आतंकवादी आम जनता, गणमान्य व्यक्तियों और महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं. कार्यक्रम की सुरक्षा को देखते हुए दिल्ली क्षेत्र को नो फ्लाइंग जोन घोषित करने के साथ इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे और अन्य संवेदनशील क्षेत्रों के पास ड्रोन और लेजर बीम गतिविधियों को रोकने के लिए भी निषेधाज्ञा लागू की गई है. वह आगे बोले कि दिल्ली में बड़ी संख्या में पुलिस व सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया जाएगा. चप्पे-चप्पे पर नजर रहेगी. फिलहाल किसी भी अनधिकृत वाहन को सुरक्षा क्षेत्रों में प्रवेश करने से रोकने के लिए गहन जांच जारी है.

ये भी पढ़ें-UP में कम सीटें मिलने की वजह आई सामने… भाजपा ने इन के ऊपर फोड़ा हार का ठीकरा

तीन स्तरीय सुरक्षा के दायरे में रहेगा कार्यक्रम

आंतरिक परिधि- शपथ ग्रहण समारोहा स्थल यानी राष्ट्रपति भवन और कर्तव्य पथ के आसपास का उच्च सुरक्षा क्षेत्र.

बाहरी परिधि-उन होटलों के आस-पास कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की दूसरी परत होगी, जहां विदेशी राष्ट्राध्यक्ष और गणमान्य लोग रुकेंगे. इनमें ताज, मौर्य, लीला और ओबेरॉय होटल शामिल हैं.

सबसे बाहरी परिधि मध्य दिल्ली के आस-पास सुरक्षा की तीसरी परत होगी, जिसमें जमीन से हवा तक निगरानी और व्यापक सुरक्षा कवर शामिल है.

इस तरह रहेगी चप्पे-चप्पे पर नजर

बढ़ाई जाएगी सुरक्षा : इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर सुरक्षा व्यस्था और कड़ी की जाएगी. इसके अलावा परिचालन आवश्यकताओं के आधार पर प्रतिबंधों को और बढ़ाया जा सकता है.

बता दें कि कार्यक्रम को देखते हुए देश की खुफिया एजेंसियां पूरी तरह से सतर्क हैं और सुरक्षा खतरों के बारे में जानकारी जुटाने के लिए विदेशी एजेंसियों से समन्वय स्थापित कर रही हैं. इसके अलावा हर विदेशी नेता के लिए व्यक्तिगत खतरे का आंकलन किया जा रहा है.

कार्यक्रम से पहले ही राज्य की सभी सीमाएं सील कर दी जाएंगी ताकि कोई अनधिकृत प्रवेश न हो सके.

किसी भी सुरक्षा खतरे से निपटने और अलग कंट्रोल रूम स्थिति पर नजर रखने के लिए अलग नियंत्रण कक्ष बनाया जाएगा.

इसके अलावा होटल कर्मचारियों के बैकग्राउंड की भी जांच की जाएगी, ताकि किसी भी तरह की सुरक्षा में कोई सेंध लगाने की कोशिश न कर सके.

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read