UP Budget 2023: भाजपा सरकार के बजट पर विपक्ष का हमला, करार दिया ‘दिशाहीन’, ‘ऊंट के मुंह में जीरा’ और ‘आंकड़ों की बाजीगरी’

UP Politics: उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने बुधवार को विधानसभा (UP Assembly) में बजट पेश कर दिया. इसी के बाद से लगातार विपक्षी दल भाजपा सरकार के इस बजट की आलोचना कर रहे हैं.

अखिलेश यादव-मायावती-शिवपाल सिंह यादव (फोटो-सोशल मीडिया)

UP Budget 2023: उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने बुधवार को विधानसभा (UP Assembly) में बजट पेश कर दिया है. इसके बाद से लगातार विपक्षी दल भाजपा सरकार के इस बजट की आलोचना कर रहे हैं. जहां सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने बजट को ‘दिशाहीन’ कहा तो वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने बजट को ‘ऊंट के मुंह में जीरा’ बताया.  शिवपाल सिंह यादव ने इसे ‘आंकड़ों की बाजीगरी’ कह कर सम्बोधित किया.

बजट को लेकर अखिलेश ने दी ये प्रतिक्रिया

बता दें कि बजट पेश होने के बाद नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने प्रेस कांफ्रेंस कर अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि “ये बजट दिशाहीन बजट दिखाई देता है. मुझे लगता है कि ये सरकार 1 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी नहीं बना पाएगी. यहां इज यफ डूइंग क्राइम है, इज ऑफ डूइंग मुकदमा है. राज्य में गाने पर मुकदमा हो रहा है. इसमें जातीय जनगणना के लिए कोई बजट नहीं है.”

देखें बजट को लेकर मायावती ने क्या किया ट्विट

बजट को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती ने लम्बा-चौड़ा ट्वीट किया है और योगी सरकार पर तंज करते हुए कहा है, “उत्तर प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र के पहले दिन आज माननीया राज्यपाल का अभिभाषण लोगों को त्रस्त करती महंगाई, गरीबी, बेरोजगारी, पिछड़ेपन व अशान्त माहौल आदि के खास मामलों में सरकार द्वारा अपनी विफलताओं पर पर्दा डालने का निरर्थक प्रयास. कुल मिलाकर जनता को काफी मायूस करने वाला यूपी में सत्ताभोगी तत्वों को छोड़कर, सरकारी दावों के विपरीत, आज हर वर्ग, समाज व समुदाय सरकार की संकीर्ण एवं द्वेषपूर्ण नीतियों व कार्यकलापों का भुक्तभोगी तथा उससे पीड़ित/दुःखी. लोगों को उनका हक व इंसाफ नहीं मिल पाना सरकार की सबसे बड़ी विफलता. सरकार इस ओर जरूर ध्यान दे.”

उन्होंने कहा, “यूपी सरकार द्वारा लोकसभा आमचुनाव के मद्देनजर नए भ्रमकारी वादे व दावे करने से पहले पिछले बजट का ईमानदार रिपोर्ट कार्ड लोगों के सामने नहीं रखने से स्पष्ट है कि भाजपा की डबल इंजन सरकार में प्रति व्यक्ति आय व विकास की जमीनी हकीकत मिथ्या प्रचार व जुमलेबाजी. बजट ऊँट के मुँह में जीरा. लोगों को आत्मनिर्भर बनाने हेतु प्रति व्यक्ति आय में अपेक्षित वृद्धि, रोजगार व सरकारी भर्ती आदि तो दूर, उन पर कर्ज का बढ़ता बोझ सरकार की गलत नीतियों व प्राथमिकताओं का प्रमाण. कर्ज के बढ़ते बोझ से स्पष्ट है कि सरकार, दावों एवं प्रचारों के विपरीत, हर मोर्चे पर विफल हो रही है.”

ये भी पढ़ें: UP News: यूपी रोडवेज बस हादसे में मृतक आश्रितों का मुआवजा डेढ़ गुना बढ़ा, अब इतनी होगी आर्थिक मदद की राशि

शिवपाल ने कसा तंज

यूपी सरकार के बजट पर सपा के राष्ट्रीय महासचिव शिवपाल यादव ने तंज कसते हुए कहा, “आज का बजट नौकरशाही के नाम, आंकड़ों की बाजीगरी को सलाम!”

-भारत एक्सप्रेस

 

Bharat Express Live

Also Read