Basant Panchami 2024: बसंत पंचमी आज, बन रहे हैं ये 3 खास योग, जानें पूजा के लिए शुभ मुहूर्त और सही विधि

Basant Panchami 2024 Shubh Muhurat Puja Vidhi: बसंत पंचमी, माघ शुक्ल पंचमी तिथि को मनाई जाती है. इस साल बसंत पंचमी 14 फरवरी को यानी आज मनाई जा रही है. बसंत पंचमी पर इस साल 3 शुभ योग बन रहे हैं.

basant Panchami 2024 (1)

बसंत पंचमी 2024.

Basant Panchami 2024: बसंत पंचमी हर साल माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है. इस साल बसंत पंचमी 14 फरवरी, बुधवार को यानी आज मनाई जा रही है. हिंदू धर्म में आस्था रखने वालों के लिए बसंत पंचमी का त्योहार खास होता है. बसंत पंचमी के दिन ज्ञान, विद्या और बुद्धि की देवी मां सरस्वती की पूजा की जाती है. मान्यता है कि बसंत पंचमी (Basant Panchami 2024) के दिन ऐसा करने से मां सरस्वती (Saraswati) की कृपा प्राप्त होती है. जिसके परिणामस्वरूप इंसान की बुद्धि तेज रहती है. ज्योतिष शास्त्र के जानकारों के मुताबिक इस साल बसंत पंचमी बेहद खास रहने वाली है. इस दिन तीन शुभ संयोग बनेंगे.

बसंत पंचमी पर बनेंगे 3 शुभ योग

  • बसंत पंचमी पर आज रवि योग, अश्विनी नक्षत्र और रेवती नक्षत्र का खास योग बन रहा है. इस दिन रवि योग सुबह 10 बजकर 43 मिनट से लेकर अगले दिन यानी 15 फरवरी को सुबह 7 बजे तक रहेगा.
  • बसंत पंचमी पर आज को अश्विनी नक्षत्र का भी खास योग बन रहा है. पंचांग के अनुसार, इस दिन अश्विनी नक्षत्र सुबह 10 बजकर 43 मिनट से अगले दिन सुबह 9 बजकर 26 मिनट तक रहेगा.
  • दृक पंचांग के अनुसार, बसंत पंचमी पर रेवती नक्षत्र 13 फरवरी को दोपहर 12 बजकर 35 मिनट से 14 फरवरी को सुबह 10 बजकर 43 मिनट तक रहेगा.

बसंत पंचमी 2024 पूजा शुभ मुहूर्त

बसंत पचंमी माघ शुक्ल पंचमी को मनाई जाती है. दृक पंचांग के अनुसार, पंचमी तिथि की शुरुआत 13 फरवरी दोपहर 2 बजकर 41 मिनट से हो चुकी है. जबकि इस शुभ मुहूर्त की समाप्ति 14 फरवरी को दोपहर 12 बजकर 09 मिनट पर होगी. वहीं इस दिन मां सरस्वती की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त सुबह 7 बजकर 8 मिनट से लेकर 12 बजकर 53 मिनट तक है.

बसंत पंचमी 2024 पूजा विधि

बसंत पंचमी के दिन पीले रंग का खास महत्व है. ऐसे में इस दिन सुबह उठकर स्नान के बाद पीले रंग के कपड़े पहने. इसके बार मां सरस्वती की पूजा शुरू करें. पूजन के क्रम में सबसे पहले पीले रंग के वस्त्र पर मां सरस्वती की प्रतिमा या तस्वीर स्थापित करें. इसके बाद हल्दी, केसर, अक्षत, रोली, धूप, दीप, सफेद फूल, पीले फूल, पीले या सफेद रंग की मिठाई इत्यादि मां सरस्वती की चढ़ाएं. इसके अलावा मां शारदे को पीले रंग का गुलाल (अबीर) अर्पित करें. बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा करते वक्त उनके सामने पढ़ने-लिखने की सामग्री, गायन-वादन का यंत्र जैसे-बांसुरी, वीणा, हारमोनियम इत्यादि जो आपको पास हो उसे रखें. पूजा के अंत में मां सरस्वती की आरती करें.

बसंत पंचमी 2024 मंत्र

1. ओम् सरस्वत्यै नमः

2. ओम् महाभद्रायै नमः

3. ओम् महमायायै नमः

4. ओम् वरप्रदायै नमः

5. ओम् श्रीप्रदायै नमः

6. ओम् पद्मनिलयायै नमः

7. ओम् पद्मा क्ष्रैय नमः

8. ओम् पद्मवक्त्रायै नमः

9. ओम् शिवानुजायै नमः

10. ओम् पुस्त कध्रते नमः

11. ज्ञानमुद्रा ओम् ज्ञानमुद्रायै नमः

यह भी पढ़ें: बसंत पंचमी पर 30 साल बाद दुर्लभ संयोग! इन राशियों को होगा अकूत धन लाभ

Bharat Express Live

Also Read