Bharat Express

PM Modi ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात कर पद से दिया इस्तीफा, 8 जून को तीसरी बार ले सकते हैं शपथ

राष्ट्रपति मुर्मू ने पीएम मोदी का इस्तीफा स्वीकार कर उन्हें और मंत्रिपरिषद से नई सरकार के कार्यभार संभालने तक पद पर बने रहने का अनुरोध किया है.

PM Modi resign his post

PM मोदी ने राष्ट्रपति द्रोपदी मूर्मू को सौंपा अपना इस्तीफा.

Election 2024: लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद परंपरा के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात कर मंत्रिपरिषद के साथ अपना इस्तीफा सौंप दिया है.

राष्ट्रपति भवन की तरफ से बयान जारी कर कहा गया है, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज राष्ट्रपति से मुलाकात की और मंत्रिपरिषद के साथ अपना इस्तीफा सौंप दिया. राष्ट्रपति ने इस्तीफा स्वीकार कर लिया है और नरेंद्र मोदी और मंत्रिपरिषद से नई सरकार के कार्यभार संभालने तक पद पर बने रहने का अनुरोध किया है.’

17वीं लोकसभा भंग

इससे पहले बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में पीएम आवास पर हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में वर्तमान लोकसभा (17वीं लोकसभा) को भंग करने की सिफारिश को मंजूरी दी गई थी. पीएम आवास पर केंद्रीय मंत्रिपरिषद की भी बैठक हुई, जिसके बाद पीएम मोदी ने राष्ट्रपति भवन जाकर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को अपना इस्तीफा सौंपा.


यह भी पढ़ें: Modi 3.0: ‘शिक्षा, स्वास्थ्य और परिवहन मंत्रालय…’, NDA की बैठक में चंद्रबाबू नायडू कर सकते हैं ये डिमांड


सरकार बनाने का दावा पेश करेगा NDA

आज (बुधवार) शाम को भाजपा, एनडीए के सहयोगी दलों के साथ सरकार गठन और भविष्य के राजनीतिक एजेंडे पर चर्चा करेगी. एनडीए गठबंधन के नेता राष्ट्रपति से मुलाकात कर नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में फिर से सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे.

8 जून को शपथ ले सकते हैं पीएम मोदी

सूत्रों के मुताबिक, एनडीए गठबंधन की नई सरकार का शपथ ग्रहण समारोह 8 जून को हो सकता है. राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने पीएम मोदी सहित केंद्र सरकार के सभी वर्तमान मंत्रियों को आज रात डिनर पर भी आमंत्रित किया है.

मंगलवार को आए चुनावी नतीजों में भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए को फिर से बहुमत मिल गया है, लेकिन इन नतीजों ने भाजपा के सहयोगियों चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी और नीतीश कुमार की जेडीयू की भूमिका को महत्वपूर्ण बना दिया है, इसलिए भाजपा की पहली कोशिश एनडीए के सभी सहयोगी दलों को मजबूती से अपने साथ बनाए रखने की है.

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read

Latest