ISRO के लिए बड़ा दिन! आज अंतिम कक्षा में प्रवेश करेगा Aditya L-1

सूर्य का विस्तृत अध्ययन करने के लिए उपग्रह में सात अलग-अलग पेलोड हैं, जिनमें से चार सूर्य से प्रकाश का निरीक्षण करेंगे और अन्य तीन प्लाज्मा और चुंबकीय क्षेत्र के इन-सीटू मापदंडों को मापेंगे.

Aditya L-1 ( प्रतीकात्मक तस्वीर)

Aditya L-1 ( प्रतीकात्मक तस्वीर)

Aditya L-1: 2 सितंबर को लॉन्च किया गया भारत का पहला सौर मिशन, Aditya L-1 , अब एल-1 पॉइंट तक तक पहुंचने के लिए तैयार है. कहा जा रहा है कि आज यानी शनिवार को यह अपने निर्धारित लक्ष्य तक पहुंच जाएगा. आदित्य एल-1 को लैग्रेंजियन पॉइंट 1 के चारों ओर एक प्रभामंडल कक्षा में स्थापित किया जाएगा. यह सूर्य की दिशा में पृथ्वी से 1.5 मिलियन किमी दूर है. यहां पहुंचते ही आदित्य एल-1 अपने काम में लग जाएगा.

इसरो की आधिकारिक वेबसाइट पर साझा की गई जानकारी के अनुसार, L1 पॉइंट पर पहुंचने पर, एक अन्य युक्ति आदित्य-L1 को L1 के चारों ओर एक कक्षा में बांधती है, जो पृथ्वी और सूर्य के बीच एक संतुलित गुरुत्वाकर्षण स्थान है.

यह भी पढ़ें: Elara Capital Raj Bhatt: समाजसेवी राज भट्ट उत्तराखंड में बच्चों को दिला रहे निशुल्क कंप्यूटर प्रशि​क्षण, गरीबों की कर रहे मदद

L1 तक पहुंचने के बाद आदित्य लगातार सूर्य का निरीक्षण करने में सक्षम होगा, जिससे वैज्ञानिकों को वास्तविक समय में सौर गतिविधियों और अंतरिक्ष मौसम पर उनके प्रभाव का अध्ययन करने की आजादी मिलेगी, साथ ही, अंतरिक्ष यान का डेटा उन प्रक्रियाओं के अनुक्रम की पहचान करने में मदद करेगा जो सौर विस्फोट की घटनाओं को जन्म देती हैं और अंतरिक्ष मौसम चालकों की गहरी समझ में योगदान देगी.

यह भी पढ़ें: ‘बंगाल में लोकतंत्र नाम की कोई चीज नहीं, वहां किम जोंग की सरकार है..’, ED अफसरों पर हमला होने पर बोले मंत्री गिरिराज सिंह

सूर्य का विस्तृत अध्ययन करने के लिए उपग्रह में सात अलग-अलग पेलोड हैं, जिनमें से चार सूर्य से प्रकाश का निरीक्षण करेंगे और अन्य तीन प्लाज्मा और चुंबकीय क्षेत्र के इन-सीटू मापदंडों को मापेंगे. Aditya L-1 पर सबसे बड़ा और तकनीकी रूप से सबसे चुनौतीपूर्ण पेलोड विजिबल एमिशन लाइन कोरोनाग्राफ या वीईएलसी है. VELC को इसरो के सहयोग से होसाकोटे में भारतीय खगोल भौतिकी संस्थान के CREST (विज्ञान प्रौद्योगिकी में अनुसंधान और शिक्षा केंद्र) परिसर में एकीकृत, परीक्षण और अंशांकित किया गया था.

भारत के सौर मिशन के प्रमुख उद्देश्यों में सौर कोरोना की भौतिकी और इसके ताप तंत्र, सौर वायु त्वरण, सौर वायुमंडल की युग्मन और गतिशीलता, सौर वायु वितरण और तापमान अनिसोट्रॉपी, और कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) की उत्पत्ति का अध्ययन शामिल है.

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read