देश में पहली बार मेडिकल की हिंदी में पढ़ाई, अमित शाह बोले- शिवराज पूरा कर रहे PM मोदी का सपना

मध्य प्रदेश हिंदी में मेडिकल की पढ़ाई करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है. रविवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भोपाल में MBBS की हिंदी में तीन किताबों का विमोचन किया. इस दौरान अमित शाह ने हिंदी में मेडिकल कोर्स शुरू करने के लिए CM शिवराज सिंह का विशेष धन्यवाद किया. उन्होंने कहा, “हिंदी में मेडिकल की पढ़ाई शुरू कराकर शिवराज सिंह ने मोदी जी की इच्छा पूरी की है.” शाह ने बताया कि देश भर में यूजी नीट 22 भाषाओं में हो रही है. वहीं, 10 राज्य इंजीनियरिंग की पढ़ाई अलग- अलग मातृभाषाओं में करा रहे हैं.

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि जो भी मातृभाषा का समर्थक है, उसके लिए आज का दिन बेहद खास है. शाह ने कहा, “मध्य प्रदेश का जब चुनाव हो रहा था तब घोषणा पत्र में इसका जिक्र था. मोदी जी का नई शिक्षा नीति का सबसे पहले मध्य प्रदेश ने जमीं पर उतारा है. आज यह नई शुरुआत हो रही है. इसके लिए हिन्दी प्रकोष्ठ का गठन हुआ.” उन्होंने आगे कहा कि मध्य प्रदेश ने मेडिकल की पढ़ाई का संकल्प हिंदी में लिया है. इससे देश में क्रांति आएगी.

CM ने बताया हिंदी में पाठ्यक्रम क्यों है जरूरी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि गरीब परिवार के बच्चे हिंदी माध्यम से पढ़ाई करके मेडिकल कॉलेज में पहुंच तो जाते हैं लेकिन अंग्रेजी के मकड़जाल में फंसकर रह जाते हैं. कई छात्रों ने अंग्रेजी के चलते मेडिकल की पढ़ाई छोड़ दी तो कई ने आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया.

शिवराज सिंह चौहान ने एक छात्र की आपबीती का जिक्र करते हुए कहा, “मैंने एक बच्चे से पूछा कि डॉक्टरी की पढ़ाई क्यों छोड़ दी. उसने रोते हुए कहा- मामा अंग्रेजी समझ नहीं आती.” सीएम ने कहा कि हिंदी में पढ़ाई ऐसे बच्चों के काम आयेगी.

PM मोदी ने बदली भारतीय मानसिकता

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विशेष तौर पर जिक्र किया. उन्होंने बताया कि PM मोदी ने सबसे बड़ा काम ये किया कि उन्होंने भारतीय मानसिकता को बदल दिया. उन्होंने कई जगह हिंदी बोलकर भारतीयों की शान को बढ़ाया. सीएम ने कहा कि चीन और इटली अपनी भाषा में पढ़ा सकते हैं तो भारत क्यों नहीं.

Bharat Express Live

Also Read