Kisan Andolan: “ये कैसा अमृतकाल किसानों पर आंसू गैस के गोलों की बौछार, धिक्कार…” अखिलेश ने साधा भाजपा सरकार पर निशाना

UP Politics: दिल्ली की सरकार जान बूझकर किसानों की आवाज दबाना चाहती है. इन्होंने किसानों से किए वादे पूरे नहीं किए.

UP Budget Session 2024 Akhilesh Yadav, Cm yogi adityanath

सपा प्रमुख अखिलेश यादव.

Kisan Andolan: एमएसपी कानून बनाने और बिजली बिल अधिनियम 2020 को रद्द करने की मांग को लेकर एक बार फिर से किसानों का आंदोलन जारी हो गया है. 13 फरवरी को दिल्ली कूच का ऐलान करते हुए किसान जैसे ही दिल्ली की ओर बढ़े वैसे ही पुलिस-प्रशासन ने उनको रोकना चाहा, लेकिन वे नहीं रुके. इस पर पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े. इस पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव का बयान सामने आया है.

सपा नेता ने अपने एक्स अकाउंट पर भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए लिखा, ‘भाजपा राज में ये है भला कैसा अमृतकाल किसानों पर आँसू गैस के गोलों की बौछार धिक्कार! धिक्कार!! धिक्कार!!!’ इसी के साथ ही मीडिया से बात करते हुए अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार पर कई आरोप लगाए हैं. अखिलेश ने कहा कि, जो लोग जो सरकार किसानों के नाम पर वोट लेना चाहती हो उसने वादे पूरे नहीं किए. उन्होंने आगे कहा कि, दिल्ली की सरकार जान बूझकर किसानों की आवाज दबाना चाहती है. इन्होंने किसानों से किए वादे पूरे नहीं किए. इसी के साथ ही अखिलेश ने पूछा कि किसानों को एमएसपी क्यों नहीं मिलनी चाहिए? उन्होंने आगे कहा कि, जो कुछ हो रहा है और जिस प्रकार की खबरें आ रही हैं कि आंसू गैस के गोले छोड़े जा रहे हैं. किसानों को रोकने के लिए और आंदोलन खत्म करने के लिए कीलों के साथ-साथ दीवारें तक खड़ी की गई. सपा प्रमुख ने आगे कहा कि, “प्रशासन के माध्यम से सरकार जो कर सकती थी कर रही है. दिल्ली की सरकार किसानों की आवाज को दबाना चाहती है. ये वही सरकार के लोग हैं जिन्होंने किसानों से कहा कि उनकी आय दोगुनी हो जाएगी, फसल की कीमत मिलेगी, MSP लागू करेंगे.”

ये भी पढ़ें-किसान आंदोलन को रोकने के लिए तैयार हो गई कंक्रीट की दीवार और नुकीले तार, गाजियाबाद में यूपी गेट सील

किसानों ने तोड़े अवरोधक

बता दें कि किसानों ने दिल्ली कूच की घोषणा के साथ ही तेजी के साथ दिल्ली की ओर बढ़ रहे हैं. इस पर हरियाणा पुलिस द्वारा अंबाला के समीप शंभू में पंजाब से लगती सीमा पर लगाए अवरोधक तोड़ने की कोशिश करने वाले किसानों पर आंसू गैस के गोले छोड़े गए. तो वहीं खबर सामने आ रही है कि, कुछ किसानों को शंभू सीमा के समीप हिरासत में भी लिया गया है. पुलिस ने जानकारी दी कि, पहले किसानों को समझाने की कोशिश की गई लेकिन वे नहीं माने और आगे बढ़ने लगे. तो वहीं कुछ युवाओं ने लोहे के अवरोधक तोड़े और इसे घग्घर नदी पुल से फेंकने की कोशिश की तो पुलिस को आंसू गैस के कई गोले छोड़ने पड़े. तो वहीं पुलिस ने आंसू गैस का गोला गिराने के लिए एक ड्रोन का भी इस्तेमाल किया. बता दें कि सोमवार को किसानों द्वारा फसलों के लिए एमएसपी की कानूनी गारंटी देने के साथ ही कई अन्य मांगों पर केंद्र सरकार से बात की थी लेकिन इसका कोई परिणाम नहीं निकला. इसी के बाद किसानों ने आज दिल्ली की ओर कूच कर दिया है.

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read