Banke Bihari Temple Corridor: बांके बिहारी मंदिर कॉरिडोर के खिलाफ विरोध तेज, प्रदर्शनकारियों ने CM योगी को खून से लिखा खत

Banke Bihari Temple Corridor Protest: इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद मथुरा के डीएम ने 8 सदस्यों की कमेटी बनाकर मंदिर के आसपास लगभग 200 से अधिक भवनों का सर्वेक्षण करा कर मार्किंग की है.

Banke Bihari Temple Corridor

खून से पत्र लिखते प्रदर्शनकारी

Banke Bihari Temple Corridor: उत्तर प्रदेश के मथुरा में बांके बिहारी मंदिर कॉरिडोर के प्रस्तावित विकास के खिलाफ विरोध तेज हो गया है. स्थानीय निवासियों और दुकानदारों ने अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खून से लिखे पत्र भेजे हैं. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि, प्रस्तावित विकास अनावश्यक है और यह उनके पुश्तैनी घरों को नष्ट कर देगा और उनकी आजीविका को प्रभावित करेगा.

बनारस में काशी कॉरिडोर, उज्जैन में महाकाल लोक और अयोध्या में निर्माणाधीन राम मंदिर के बाद अब सरकार मथुरा में वृंदावन में बांके बिहारी मंदिर कॉरिडोर (Banke Bihari Temple Corridor) बनाने की तैयारी कर रही है. जिसका स्थानीय लोग विरोध कर रहे हैं. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि प्रस्तावित कॉरिडोर के लिए 300 से अधिक दुकानों और घरों को तोड़ा जाना है. कॉरिडोर निर्माण होने से क्षेत्र का विरासत मूल्य खत्म हो जाएगा.

त्रुटिपूर्ण योजना से क्षेत्र को बर्बाद नहीं होने देंगे- अमित

बांके बिहारी बाजार संघ के अध्यक्ष अमित गौतम ने मंगलवार को कहा कि “गलियारे के प्रस्तावित विकास (Banke Bihari Temple Corridor) के विरोध में सोमवार को मंदिर के आसपास के क्षेत्र में संचालित 300 से अधिक दुकानें बंद रहीं. हमने अपने खून से प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है कि विकास की त्रुटिपूर्ण योजना के नाम पर क्षेत्र को बर्बाद नहीं होने दिया जाए.” अमित गौतम ने कहा कि, “अगर सरकार योजना वापस नहीं लेती है तो विरोध तेज होगा.”

Banke Bihari Temple Corridor

बता दें कि, हाल ही में मथुरा की सांसद हेमा मालिनी ने कहा था कि ठाकुर बांके बिहारी मंदिर के आसपास सरकार द्वारा प्रस्तावित कॉरिडोर निर्माण के बाद यहां धार्मिक पर्यटन में उल्लेखनीय वृद्धि होगी और कारोबार में भी तेजी आएगी.

Banke Bihari Temple Corridor

ये भी पढ़ें: 5 एकड़ में बनेगा बांके बिहारी मंदिर का कॉरिडोर, मथुरा के गोस्वामियों का इस बात पर विरोध

गौरतलब है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद मथुरा के डीएम ने 8 सदस्यों की कमेटी बनाकर मंदिर के आसपास लगभग 200 से अधिक भवनों का सर्वेक्षण करा कर मार्किंग की है. 20 दिसंबर 2022 को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बांके बिहारी मंदिर कॉरिडोर के लिए सर्वेक्षण के आदेश दिए थे. वहीं आज यूपी सरकार अपनी सर्वेक्षण रिपोर्ट हाईकोर्ट के सामने पेश करेगी.

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read