Ayodhya: श्रीराम मंदिर का निर्माण कार्य तेज, मंडप के खंभे तैयार, मूर्तियों को दिया जा रहा है अंतिम रूप, वीडियो आया सामने

मंदिर का निर्माण नागर शैली में किया जा रहा है. बता दें कि उत्तर भारत में प्राचीन काल के मंदिर इसी शैली में बने हुए हैं.

श्रीराम मंदिर का निर्माण कार्य तेजी से बढ़ रहा है आगे

Ayodhya: अयोध्या में रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा को लेकर कार्यक्रम जारी होने के बाद भव्य श्रीराम मंदिर के निर्माण कार्य को तेज कर दिया गया है. इसका एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें देखा जा सकता है कि निर्माण कार्य तेजी से आगे बढ़ रहा है और सुंदर मूर्तियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है. साथ ही 5 मंडप के खंभे तैयार दिखाई दे रहे हैं. दीवारों पर देवमूर्ति और नक्काशी को उकेरते हुए कारीगर फाइनल टच दे रहे हैं. इस 43 सेकेंड वाले वीडियो को ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने गुरुवार को ट्वीट किया है.

बता दें कि इस वीडियो को राम भक्त तेजी से वायरल कर रहे हैं और जल्द से जल्द राम मंदिर का निर्माण होने की कामना कर रहे हैं ताकि दर्शन को पहुंच सकें. तो वहीं महासचिव चंपत राय ने इस वीडियो को ट्वीट करते हुए इसमें कैप्शन में लिखा, “हरि अनंत हरि कथा अनंता। कहहिं सुनहिं बहुबिधि सब संता॥ रामचंद्र के चरित सुहाए। कलप कोटि लगि जाहिं न गाए॥”

वीडियो के बैकग्राउंड में भगवान श्रीराम का भजन, “रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम” चल रहा है. बता दें कि इस वीडियो के पहले शॉट में राम मंदिर के सुंदर व भव्य दृश्य को दिखाया गया है और दूसरे में कलाकार मूर्ति पर नक्काशी करते दिख रहे हैं तो वहीं तीसरे में गर्भगृह दिखाई दे रहा है व चौथे में गर्भगृह के अंदर की नक्काशी दिखाई गई है.

ये भी पढ़ें- UP Politics: “सपा ने फूलन देवी का यूज किया..”, योगी सरकार में मंत्री संजय निषाद ने अखिलेश की पार्टी पर साधा निशाना

हाल ही में चंपत राय ने श्रीराम मंदिर में राम लला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए जनवरी 2024 की तारीखों की घोषणा की थी और ये भी जानकारी दी थी कि इसके लिए प्रधानमंत्री को न्योता भेजा गया है. उन्होंने ये भी बताया था कि प्राण प्रतिष्ठा समारोह में राम मंदिर ट्रस्ट करीब 10 हजार लोगों को आमंत्रण भेजेगा.

पहले फ्लोर पर होगा राम दरबार

बता दें कि राम मंदिर निर्माण कार्य को लेकर ट्रस्ट द्वारा लगातार वीडियो व फोटो ट्विटर पर शेयर किए जाते हैं. इसी क्रम में कुछ दिन पहले रविवार को भी ट्रस्ट ने 4 तस्वीरें जारी की थीं और गर्भगृह के ऊपर बन रहे फर्स्ट फ्लोर और परकोटे की जानकारी दी थी. इसी के साथ ये जानकारी दी गई थी कि पहले फ्लोर में ही राम दरबार सजाया जाएगा, जबकि ग्राउंड फ्लोर के गर्भगृह में रामलला अपने चारों भाइयों और हनुमान जी के साथ विराजमान होंगे. इसी के साथ ये भी जानकारी दी गई थी कि मंदिर के बाहर 8 एकड़ में परकोटा बनाया जा रहा है, जिसका आकार 800X800 मीटर है.

भूतल पर गर्भगृह समेत 5 मंडप बनाए जाने की भी जानकारी शेयर की गई थी. गुह्य मंडप, नृत्य मंडप, रंग मंडप, कीर्तन मंडप और कोलि गृह नाम भी इनके बताए गए थे. साथ ही मंदिर में प्रवेश करने के लिए सिंह द्वार के निर्माण की भी जानकारी दी गई. मंदिर का गर्भगृह अष्ट कोणीय कमल दल की तरह होने की जानकारी शेयर की गई थी. साथ ही इसमें बीचों बीच पीछे की ओर भगवान रामलला के विराजमान होने के लिए आसन बनाने के बारे में भी बताया गया था.

इतने साल के होंगे रामलला

इसी के साथ ट्रस्ट द्वारा ये जानकारी भी पहले शेयर की जा चुकी है कि मंदिर का निर्माण नागर शैली में किया जा रहा है. बता दें कि उत्तर भारत में प्राचीन काल के मंदिर इसी शैली में बने हुए हैं. तो वहीं ट्रस्ट द्वारा जानकारी दी गई है कि मंदिर में 5 साल के भगवान राम के बालक रूप की मूर्ति लगाई जाएगी और गर्भ गृह में मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा 15 से 24 जनवरी 2024 के बीच किसी एक दिन की जाएगी. इसी को देखते हुए अक्टूबर तक मंदिर के ग्राउंड फ्लोर का काम पूरा किए जाने को लेकर तेजी से कार्य चल रहा है.

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read