Bharat Express

Rajkot TRP Game Zone Fire Accident: वडोदरा में सभी गेम जोन का किया गया निरीक्षण, जानें कब तक बंद रहने का दिया गया है आदेश

मुख्य अग्निशमन अधिकारी पार्थ ब्रह्मभट्ट ने कहा कि “कल राजकोट में आग लगने की घटना के बाद वडोदरा के सभी गेम ज़ोन का निरीक्षण किया गया.”

Rajkot TRP Game Zone Fire Accident-

जल कर राख हुआ गेमिंग जोन (फाइल फोटो)

Rajkot TRP Game Zone Fire Accident: गुजरात के राजकोट शहर में टीआरपी गेम जोन में लगी भीषण आग में न जाने कितनी ही माताओं की गोद उजड़ गई है. घटना के बाद से ही  मृतकों के परिवार में कोहराम मचा हुआ है. छुट्टी के मौके पर मौज-मस्ती करने के लिए गेम जोन में पहुंचे लोगों में 12 बच्चों सहित 30 लोगों के जिंदा जलने की खबर सामने आई है. इस घटना ने पूरे गुजरात को हिला कर रख दिया है.

तो वहीं इस तरह की घटना फिर से न हो, इसके लिए राज्य सरकार ने तुरंत प्रदेश के सभी गेम जोन को बंद करने का आदेश देने के साथ ही निरीक्षण करने के लिए कहा है. फिलहाल अब राज्य सरकार के आदेश के बाद ही बंद सभी गेम जोन खोले जा सकेंगे.

सेफ हैं सभी गेम जोन

वहीं मुख्य अग्निशमन अधिकारी पार्थ ब्रह्मभट्ट ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा कि “कल राजकोट में आग लगने की घटना के बाद वडोदरा के सभी गेम ज़ोन का निरीक्षण किया गया. सभी की जांच की गई. वडोदरा के सभी गेम ज़ोन सेफ हैं. गुजरात सरकार का जब तक कोई दूसरा ऑडर्र नहीं आता, तब तक यह गेम ज़ोन बंद रहेंगे.”

ये भी पढ़ें-Rajkot TRP Game Zone Fire Accident: SIT ने शुरू की जांच, मृतकों की पहचान के लिए परिवारवालों के लिए गए DNA नमूने

मीडिया सूत्रों के मुताबिक हादसे के वक्त टीआरपी गेम जोन में 3500 लीटर डीजल-पेट्रोल स्टोर था. साथ ही इसका डोम भी कपड़े और फाइबर से बना था. इसलिए वेल्डिंग की चिंगारी से भड़की आग ने पल भर में रौद्र रूप ले लिया. हादसे के बाद गेम जोन के मालिकों में से एक यशराज सोलंकी और मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया गया है.

सीएम ने घायलों से की मुलाकात

गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल आज घटनास्थल पर पहुंचे और उन्होंने वहां हालात का जायजा लिया. इसी के अलावा वह घायलों से मिलने के लिए अस्पताल भी पहुंचे. हादसे की सामने आई तस्वीरों से ये साफ हो रहा है कि अग्निकांड बहुत ही भयावह था. मृतकों का शरीर जलकर राख हो चुका है. उनकी पहचान भी मुश्किल हो गई है. ऐसे में हादसे की जांच के लिए गठित एसआईटी ने मृतकों के परिजनों का डीएनए टेस्ट कराने का फैसला किया है.

 

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read

Latest