Bharat Express

चुनाव परिणाम से पहले देश के सभी हाईवे पर NHAI ने टोल दरों में की बढ़ोतरी, आज से देने होंगे ज्यादा पैसे

NHAI Toll Price Hike: टोल प्लाजा शुल्क की दरों में बढ़ोतरी अप्रैल से ही होनी थी, लेकिन लोकसभा चुनाव के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था. NHAI के अधिकारियों ने कहा कि यह बढ़ोतरी एक वार्षिक प्रक्रिया है.

(प्रतीकात्मक तस्वीर: IANS)

NHAI Toll Price Hike: देश में लोकसभा चुनाव-2024 के लिए मतदान खत्म होने के बाद पहले जहां अमूल दूध ने अपनी कीमतें बढ़ा दी हैं, वहीं अब भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने देश भर में टोल दरों में वृद्धि कर दी है. हालांकि ये वृद्धि एक अप्रैल से ही होनी थी? लेकिन लोकसभा चुनाव के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था.

फिलहाल अब जो वाहन चालक नेशनल हाईवे का इस्तेमाल करेंगे, उनको सोमवार से अधिक भुगतान करना होगा. टोल दरों में औसतन पांच प्रतिशत की वृद्धि रहने की संभावना है.

दरों में संशोधन एक वार्षिक प्रक्रिया

शुल्क बढ़ोतरी को लेकर NHAI के एक वरिष्ठ अधिकारी ने रविवार को बताया कि नया शुल्क 3 जून, 2024 से लागू होगा. टोल प्लाजा पर राष्ट्रीय राजमार्ग शुल्क (दरों का निर्धारण और संग्रहण) नियम, 2008 के अनुसार उपयोगकर्ता शुल्क लगाया जाता है.

NHAI के अधिकारियों ने कहा कि टोल प्लाजा दरों में संशोधन एक वार्षिक प्रक्रिया है और कीमतों में वृद्धि या कमी थोक मूल्य सूचकांक आधारित (WPI) मुद्रास्फीति में परिवर्तन पर आधारित होती है.


ये भी पढ़ें: Amul Milk: चुनाव खत्म होते ही महंगा हुआ अमूल दूध, बढ़े इतने रुपए, आज से देश भर के सभी बाजारों में लागू होगा नया रेट


3 से 5 प्रतिशत की होगी बढ़ोत्तरी

NHAI के एक अधिकारी ने मीडिया को बताया कि देश के करीब 1100 टोल प्लाजा पर टोल के रेट में 3 से 5 प्रतिशत की वृद्धि सोमवार यानी 3 जून से हो जाएगी. टोल प्लाजा दरों में वृद्धि का निर्णय भारत के चुनाव आयोग द्वारा एनएचएआई को लोकसभा चुनाव 2024 के बाद बढ़ी हुई टोल प्लाजा दरों को वसूलने के लिए कहने के दो महीने बाद किया गया है.

एनएचएआई के एक अधिकारी ने कहा, ‘उपयोगकर्ता शुल्क (टोल) दरों में संशोधन, जिसे चुनावों के दौरान रोक दिया गया था, चुनाव प्रक्रिया समाप्त होने के बाद 3 जून से प्रभावी हो जाएगा.’

टोल प्लाजा दरों में वृद्धि पिछले कुछ वर्षों में राजनीतिक रूप से संवेदनशील मुद्दा बन गई है. एनएचएआई का तर्क है कि यह उनकी सड़क परियोजनाओं के विस्तार के लिए महत्वपूर्ण है, जबकि विपक्षी दल आम आदमी की जेब पर बोझ डालने के लिए इसकी आलोचना करते हैं.

-भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read

Latest