Amritpal Arrest: 36 दिनों बाद पकड़ा गया भगोड़ा अमृतपाल, पंजाब पुलिस ने मोगा से किया गिरफ्तार

Moga: पुलिस को 36 दिनों बाद यह बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. अभी तक अमृतपाल पुलिस को चकमा देते हुए फरार चल रहा था.

Amritpal Singh

खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल सिंह

Amritpal Singh: ‘वारिस पंजाब दे’ प्रमुख और खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल सिंह को पंजाब पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. भगोड़े अमृतपाल को मोगा के गुरुद्वारा से गिरफ्तार किया गया है. पुलिस को 36 दिनों बाद यह बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. अभी तक अमृतपाल पुलिस को चकमा देते हुए फरार चल रहा था. जानकारी के मुताबिक, मोगा के एक गुरुद्वारे में अमृतपाल ने शरण ले रखी थी. यहीं से सरेंडर के बाद उसकी गिरफ्तारी हुई. गिरफ्तारी से पहले अमृतपाल ने गुरुद्वारे में प्रवचन भी दिया था.

पुलिस ‘वारिस पंजाब के चीफ’ को पकड़ने के लिए काफी दिनों से ऑपरेशन चला रही थी. इससे पहले उसकी पत्नी किरणदीप कौर को अमृतसर एयरपोर्ट पर रोककर पूछताछ की थी. जिसके बाद उसे भी हिरासत में ले लिया गया था.

अमृतपाल की गिरफ्तारी पर पंजाब पुलिस ने ट्वीट करते हुए लिखा- अमृतपाल को मोगा से गिरफ्तार किया गया है. पुलिस की अपील है कि अफवाहों पर ध्यान न दें, न ही कोई गलत और निराधार खबर फैलाएं. शांति बनाए रखें.

अमृतपाल के साथियों पर हुई थी कार्रवाई

पंजाब पुलिस ने खालिस्तानी समथर्क अमृतपाल पर शिकंजा कसने के लिए उसके सहयोगियों को गिरफ्तार किया था. कुछ दिनों पहले पुलिस ने अमृतपाल सिंह के करीबी पपलप्रीत सिंह को गिरफ्तार किया था. गिरफ्तारी पंजाब पुलिस और दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के संयुक्त अभियान के द्वारा उसकी गिरफ्तारी पंजाब के होशियारपुर से हुई थी और उसे राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत हिरासत में लिया गया है.

यह भी पढ़ें-  योगी के मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी अपनी ही पार्टी पर भड़के, पूर्व सपा नेता के भाजपा ज्वाइन करने को बताया खुद के खिलाफ गहरी साजिश

अमृतपाल के कई साथियों को डिब्रूगढ़ जेल भेजा गया

इससे पहले खालिस्तानी समर्थक अमृतपाल के कई साथियों के असम की डिब्रूगढ़ जेल भेजा गया है. हालांकि जानकारी के मुताबिक, उसको भी इसी जेल में भेजा जा सकता है. अमृतपाल अजनाला कांड के बाद से वह फरार चल रहा था. इस कांड में अमृतपाल ने अपने खालिस्तानी समर्थकों के साथ पुलिस थाने पर हमला बोल दिया था. जिसमें कई पुलिसकर्मी भी घायल हो गए थे. उसने अपने साथी की रिहाई के लिए इस घटना को अंजाम दिया था. वहीं इस घटना के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय एक्शन में आया था और जांच के निर्देश दिए थे.

– भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read