Bharat Express

“साम्प्रदायिक सोच वाले व्यक्ति थे पूर्व PM नरसिंह राव”, अयोध्या में राम मंदिर का शिलन्यास बड़ी गलती, जानिए…और क्या बोले कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर

Mani Shankar Aiyar Book: मणिशंकर अय्यर से जब बाबरी मस्जिद मुद्दे को लेकर राजीव गांधी की उनकी आलोचना के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास गलत था.”

कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर (फोटो ट्विटर)

Mani Shankar Aiyar on Narasimha Rao: कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मणिशंकर अय्यर ने बुधवार को पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिंह राव (PV Narasimha Rao) पर आरोप लगाया कि वह ‘‘साम्प्रदायिक’’ सोच वाले व्यक्ति थे. यहां तक की उन्होंने पी.वी राव को देश में ‘‘बीजेपी का पहला प्रधानमंत्री’’ बता दिया. अय्यर की आत्मकथा ‘‘मेमोयर्स ऑफ अ मैवरिक – द फर्स्ट फिफ्टी ईयर्स (1941-1991)’’ सोमवार को बाजार में लॉन्च की गई थी. इस दौरान उन्होंने पी वी नरसिंह राव से लेकर राजीव गांधी और अपने पूर्व राजनियक के सफर के बारे में बताया. बुक लॉन्चिंग के मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पत्नी सोनिया गांधी भी वहां मौजूद थीं. मणिशंकर अय्यर ने राजीव गांधी की हत्या के बाद सोनिया गांधी के राजनीति में आने की तारीफ की. इसके अलावा उन्होंने राजीव गांधी की एक बड़ी गलती का भी जिक्र किया.

जगरनॉट बुक्स द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक में अय्यर के दून स्कूल से लेकर सेंट स्टीफंस कॉलेज और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय तक, फिर उसके बाद एक शीर्ष राजनयिक से लेकर तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के करीबी सहयोगी तक के सफर को बताया गया है.

‘राम मंदिर का शिलान्यास गलत था’

यहां किताब के औपचारिक विमोचन पर वरिष्ठ पत्रकार वीर सांघवी के साथ बातचीत में अय्यर ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी से अपने रिश्ते से लेकर दिसंबर 1978 से जनवरी 1982 के बीच कराची में महावाणिज्यदूत के अपने कार्यकाल के बारे में चर्चा की. प्रश्नों के सवाल के दौरान जब उनसे बाबरी मस्जिद मुद्दे को लेकर राजीव गांधी की उनकी आलोचना के बारे में सवाल किया गया तो अय्यर ने कहा, “मुझे लगता है कि अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास गलत था.”

यह भी पढ़ें- चंद्रयान 3 की सफलता पर इंद्रेश कुमार ने दी वैज्ञानिकों, PM और राष्ट्र को बधाई, बोले- POJK वापस लेने की प्रतिबद्धता भी दोहराई

किताब के विमोचन के मौके पर की टिप्पणियों में अय्यर ने कहा कि उन्हें अहसास हो गया था कि पी वी नरसिंह राव ‘‘कितने साम्प्रदायिक और हिंदूवादी थे.’’ अय्यर ने अपनी ‘राम-रहीम’ यात्रा के संदर्भ में कहा, ‘‘नरसिंह राव ने मुझे बताया कि उन्हें मेरी यात्रा से कोई आपत्ति नहीं है लेकिन वह धर्मनिरपेक्षता की मेरी परिभाषा से असहमत थे. मैंने कहा था कि धर्मनिरपेक्षता की मेरी परिभाषा में क्या गलत है. उन्होंने कहा, मणि ऐसा लगता है कि आप नहीं समझते कि यह एक हिंदू राष्ट्र है. मैं अपनी कुर्सी पर बैठ गया और कहा कि भाजपा भी यही कहती है.’’ उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पहले प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी नहीं थे बल्कि ‘‘राव भाजपा के पहले प्रधानमंत्री’’ थे.

पाकिस्तान को लेकर कहा ये बात

इस कार्यक्रम में कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने पाकिस्तान के साथ फिर वार्ता बहाल करने को लेकर कहा कि, “जब पड़ोसी देश की बात आती है तो ‘‘हमारे पास उनके खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक करने का साहस होता है लेकिन हमारे पास उनके साथ बैठने तथा किसी पाकिस्तानी से बात करने की हिम्मत नहीं होती है.’’

– भारत एक्सप्रेस

 

Bharat Express Live

Also Read