‘धरती के सुरक्षित भविष्‍य के लिए LeadIT सरकारों और उद्योग के बीच साझेदारी का सफल उदाहरण’, Dubai में PM मोदी ने दी स्‍पीच

दुबई में आज पीएम मोदी ने COP28 वर्ल्ड क्लाइमेट एक्शन समिट में लीडरशिप ग्रुप फॉर इंडस्ट्री ट्रांजिशन (LeadIT) में स्पीच दी. उन्होंने लीडरशिप ग्रुप फॉर इंडस्ट्री ट्रांज़िशन (LeadIT) को पृथ्वी के सुरक्षित भविष्य के लिए जरूरी बताया.

PM Modi In UAE Dubai

COP28 Dubai: लीडरशिप ग्रुप फॉर इंडस्ट्री ट्रांजिशन (LeadIT) में बोलते पीएम मोदी.

COP28 World Climate Action Summit: संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के दुबई में COP28 वर्ल्ड क्लाइमेट एक्शन समिट में लीडरशिप ग्रुप फॉर इंडस्ट्री ट्रांजिशन (LeadIT) में पीएम नरेंद्र मोदी ने स्‍पीच दी. पीएम मोदी ने कहा, “आज 18 देश और 20 कंपनियां इस समूह की सदस्य हैं. हमने अपनी G20 की अध्यक्षता में, सर्कुलरिटी रणनीतियों के तहत वैश्विक सहयोग पर जोर दिया था. इसे और आगे बढ़ाते हुए हम LeadIT में एक नया अध्याय जोड़ रहे हैं. आज, हम LeadIT 2.0 लॉन्च कर रहे हैं.”

पीएम मोदी बोले, “हम सभी सदस्‍य देश एक साझा प्रतिबद्धता – ग्लोबल नेट ज़ीरो से जुड़े हुए हैं. नेट ज़ीरो के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए सरकार और उद्योग जगत की साझेदारी बहुत महत्वपूर्ण है. इंडस्ट्रियल इनोवेशन एक आवश्यक उत्प्रेरक है.”

COP28 वर्ल्ड क्लाइमेट एक्शन समिट में लीडरशिप ग्रुप फॉर इंडस्ट्री ट्रांजिशन (LeadIT) में मोदी ने आगे कहा- ‘धरती के सुरक्षित भविष्‍य के लिए, लीडरशिप ग्रुप फॉर इंडस्ट्री ट्रांज़िशन (LeadIT) सरकारों और उद्योग के बीच इस साझेदारी का एक सफल उदाहरण है. LeadIT जो 2019 में शुरू किया गया था, वह हमारा साझा प्रयास है ताकि उद्योग परिवर्तन को बढ़ावा मिले, कम कार्बन प्रौद्योगिकी और नवाचार को गति मिले और ग्लोबल साउथ को यह जल्दी और आसानी से प्राप्त हो…”

यह भी पढ़िए: COP28 Dubai: कुछ देशों के किए की कीमत पूरी दुनिया को चुकानी पड़ रही, कार्बन उत्सर्जन के जिम्मेदार ​अब गरीब देशों के लिए आगे आएं: PM मोदी

अपनी तरह प्रकृति के हेल्थ कार्ड के बारे में सोचें: PM मोदी

दुबई में वर्ल्ड क्लाइमेट एक्शन समिट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत ने इकोलॉजी और इकोनॉमी के संतुलन का उदाहरण दुनिया के सामने पेश किया है. समिट के ग्रीन क्रेडिट्स प्रोग्राम में पीएम मोदी बोले- “जिस तरह हम अपने हेल्थ कार्ड के बारे में सोचते हैं, उसी तरह हमको पर्यावरण के बारे में भी सोचना चाहिए. हमें ये भी सोचना चाहिए कि हमारी तरह पृथ्वी के हेल्थ कार्ड में भी पॉजिटिव पॉइंट्स जुड़ें. मेरे हिसाब से यही ग्रीन क्रेडिट है”

— भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read