क्या करणी सेना अध्यक्ष सुखदेव गोगामेड़ी हत्याकांड से आनंदपाल की बेटी का था कनेक्शन? कहा- ‘वो मेरे काकोसा थे..’, देखें VIDEO

राजस्थान में हुई श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या मामले पर आनंदपाल की बेटी चरणजीत सिंह उर्फ चीनू ने वीडियो जारी कर कई बातें कहीं. खुद पर लगे आरोप को नकारा.

Anandpal daughter charanjit Singh

आनंदपाल की बेटी चरणजीत सिंह. दाएं श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी (दिवंगत)

Sukhdev Singh Gogamedi Murder : जयपुर में श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या के मामले में अब कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल सिंह की बेटी का नाम सामने आया है. पुलिस के शक की सुई आनंदपाल गैंग के पुराने सदस्यों पर है, जो गोगामेड़ी हत्‍याकांड के आरोपी रोहित गोदारा के साथ मिलकर काम कर रहे हैं. हालांकि, आनंदपाल की बेटी ने किसी भी साजिश में अपना हाथ होने से साफ इनकार किया है. जानिए वीडियो जारी कर क्‍या कहा-

आनंदपाल सिंह 2017 में पुलिस के एनकाउंटर में मारा गया था. पिता के मारे जाने पर, उसकी बेटी चरणजीत सिंह उर्फ चीनू ने आनंदपाल के दुश्‍मन माने जाने वाले राजू ठेहट का मर्डर करवा दिया था. अब मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया जा रहा है कि चीनू ने रोहित गोदारा के साथ मिलकर सुखदेव गोगामेड़ी मर्डर को प्लान किया था.

आज चीनू ने फेसबुक पेज पर एक वीडियो शेयर करते हुए अपने उूपर लगे आरोपों से इनकार किया है. चीनू ने वीडियो में कहा है कि मैं अपने काकोसा की हत्या के बारे में सोच भी नहीं सकती.

इस वीडियो में राजस्थान के कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल सिंह की बेटी चरणजीत सिंह उर्फ चीनू को आप ये कहते सुन सकते हैं कि सुखदेव गोगामेड़ी उनके परिवार के सदस्‍य जैसे थे. वो उनको काकोसा कहकर पुकार रही है. उसका कहना है कि श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या के मामले में अपना कोई रोल नहीं है.

बता दें कि आनंदपाल की बेटी विदेश में रहती है. फिलहाल उसके दुबई में रहने की खबरें आई हैं. रिपोर्ट्स में यह दावा किया जा रहा है कि आनंदपाल की बेटी चीनू फिलहाल दुबई में रहकर रोहित गोदारा के साथ लॉरेंस गैंग के लिए काम कर रही है. गोगामेड़ी हत्‍याकांड से पहले चीनू का नाम राजू ठेहट मर्डर में भी सामने आया था. राजू को आनंदपाल का जानी दुश्मन माना जाने लगा था.

इस तस्वीर में आनंदपाल दिख रहा है. 24 जून 2017 को अमावस की रात में करीब 10 बजे शेखावाटी के चूरू के मालासर गांव में एसओजी ने उसका एनकाउंटर (Anand Pal Singh Encounter) किया था. दरअसल, अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल में आनंदपाल ने 3 सितंबर 2015 को पुलिस का पहरा तोड़कर फरार हो गया था. उसने कई लोगों को मारा था.

— भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read