Madhya Pradesh: बालिका गृह से 26 लड़कियों के गायब होने से मचा हड़कंप, अवैध रूप से चल रहा था चिल्ड्रन होम, दर्ज हुई FIR

Madhya Pradesh: बालिका गृह से गायब होने वाली यह सभी बच्चियां मध्य प्रदेश के सीहोर, रायसेन, छिंदवाड़ा, बालाघाट और गुजरात, झारखंड और राजस्थान की रहने वाली थीं. पुलिस ने इस मामले में अब जांच शुरू कर दी हैं.

Madhya Pradesh

बालिका गृह से 26 लड़कियों के गायब होने से मचा हड़कंप

MP News: मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बच्चियों के गायब होने का मामला सामने आया है. यह सभी बच्चियां भोपाल में बिना अनुमित के चल रहे बालिका गृह में रहे रही थीं. यह चिल्ड्रेन होम परवालिया थाना क्षेत्र में चल रहा था. मामले सामने आने पर पुलिस ने इस मामले में एफआईआर (FIR) दर्ज कर ली है. वहीं इस मामले में राष्ट्रीय बाल आयोग ने भी संज्ञान लिया है. राष्ट्रीय बाल आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने इस घटना पर प्रदेश की चीफ सेक्रेटरी वीरा राणा को पत्र लिखा है. जानकारी के मुताबिक यह बालिका गृह अवैध तरीके चल रहा था.

बालिका गृह से गायब होने वाली यह सभी बच्चियां मध्य प्रदेश के सीहोर, रायसेन, छिंदवाड़ा, बालाघाट और गुजरात, झारखंड और राजस्थान की रहने वाली थीं. पुलिस ने इस मामले में अब जांच शुरू कर दी हैं.

रजिस्टर में 68 बच्चियों की एंट्री मिली

बच्चियों के गायब होने की जानकारी प्रियंक कानूनगो के औचक निरीक्षण के दौरान सामने आई. जब वह वहां पहुंचे तो उन्होंने बालिक गृह में रजिस्टर चेक किया. इस दौरान वहां 68 बच्चियों की एंट्री मिली, लेकिन उसमें से 26 बच्चियां गायब थीं. इसके बाद उन्होंने बालिका गृह के संचालक अनिल मैथ्यू से बच्चियों के गायब होने के बारे में पूछताछ की तो वह इसका सही जवाब नहीं दे पाए. फिर मामले की जानकारी पुलिस को दे दी गई और मुख्य सचिव को पत्र के माध्यम से 7 दिनों में इसकी रिपोर्ट मांगी है. वहीं पुलिस की एफआईआर के मुताबिक, बालिकाओं के लिए संचालित इस चिल्ड्रेन होम में कई अनियमितताएं पाई गई हैं.

यह भी पढ़ें- Ayodhya Survey: अयोध्या पर हो रही सियासत पर Bharat Express का सबसे बड़ा सर्वे, जनता से पूछे ये सवाल

शिवराज सिंह ने की जांच की मांग

वहीं इस मामले पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने जांच की मांग की है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि भोपाल के परवलिया थाना क्षेत्र में बिना अनुमति संचालित बालगृह से 26 बालिकाओं के गायब होने का मामला मेरे संज्ञान में आया है. मामले की गंभीरता तथा संवेदनशीलता को देखते हुए सरकार से संज्ञान लेने एवं त्वरित कार्रवाई करने का आग्रह करता हूं.

– भारत एक्सप्रेस

 

Bharat Express Live

Also Read