AI पर एप्पल ने इस तरह मचाया घमासान, दूसरी बड़ी कंपनियां भी नहीं है पीछे

Latest AI Update: एआई की रेस में सबसे आगे पहुंचने के लिए टेक जगत के दिग्गजों के बीच घमासान मचा हुआ है. एप्पल, माइक्रोसॉफ्ट, गूगल, मेटा… कोई भी इस रेस में पीछे छूटने के लिए तैयार नहीं है…

एआई पर मचा घमासान

एआई पर मचा घमासान

Latest AI Update: Artificial Intelligence इन दिनों बड़ी चर्चाओं में चल रहा है. ऐसे में AI की दुनिया तेजी से इंवॉल्व होने के साथ-साथ दिग्गजों की आमने-सामने भिड़ंत के दौर से गुजर रही है. एप्पल और माइक्रोसॉफ्ट जैसी बड़ी कंपनियों से लेकर धनकुबेर सब एआई की दुनिया में अपना दबदबा बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं. लेकिन एप्पल ने इस रेस में आगे निकलने के लिए आक्रामक अभियान चला दिया है.

एप्पल ने खरीद ली 30 से ज्यादा स्टार्टअप कंपनियां

एप्पल का कहना है कि वो AI को ट्रेन करने के लिए रोजाना लाखों रुपए खर्च कर रहा है. बता दें कि एप्पल ने इनमें से ज्यादातर हिस्सा एआई में काम करने वाली नई कंपनियों को खरीदने पर खर्च किया है. इतना ही नहीं एप्पल ने अकेले 12 महीने में 30 से ज्यादा स्टार्टअप कंपनियां खरीद ली है. साथ ही यह एआई सेक्टर के अन्य दिग्गजों जैसे माइक्रोसॉफ्ट, गूगल, मेटा, ओपनएआई आदि की तुलना में काफी आगे है.

AI पर एप्पल ने मचाया संग्राम

एआई की दुनिया में अभी ओपनएआई के प्रोडक्ट ChatGPT का दवाब बना हुआ है. पिछले महीने खुलासा हुआ था कि ChatGPT को अकेले 50 फीसदी से ज्यादा एआई ट्रैफिक मिल रहा है. इसे काउंटर करने के लिए तमाम बड़ी कंपनियां प्रयास कर रही हैं. साथ ही साथ दुनिया के सबसे अमीर इंसान एलन मस्क भी अपने एआई पर काम कर रहे हैं. मार्क जुकरबर्ग की मेटा भी पीछे नहीं है. गूगल ने हाल ही में अपने एआई बार्ड को जेमिनी नाम से नया अवतार दिया है और चैटजीपीटी को टक्कर देने के लिए नए सब्सक्रिप्शन प्लान लॉन्च किए हैं.

ये भी पढ़ें:इंस्टाग्राम में जल्द आ रहा धांसू फीचर, AI की मदद से लिख पाएंगे मैसेज, जानें कैसे करेगा काम

दूसरी बड़ी कंपनियां भी नहीं हैं पीछे

पहले कहा जा रहा था कि एप्पल चैटजीपीटी की तरह अपने एआई ऐप पर काम कर रही है. हालांकि अभी इस बारे में कोई खास अपडेट सामने नहीं आया है. लेकिन एप्पल अपनी पकड़ मजबूत करने का प्रयास कर रही है, जिसके तहत 2023 में 32 स्टार्टअप खरीदे गए. टेक जगत के अन्य दिग्गज भी ज्यादा पीछे नहीं हैं. पिछले साल गूगल ने 21 स्टार्टअप खरीदा था. वहीं मेटा ने 18 और माइक्रोसॉफ्ट ने 17 स्टार्टअप का किया है.

-भारत एक्सप्रेस 

Bharat Express Live

Also Read