Bharat Express

Election Results: ₹40 लाख करोड़ डूबने के बाद अब निवेशकों ने ₹12 लाख करोड़ कमाए, सेंसेक्स 3% बढ़कर बंद

लोकसभा चुनाव परिणाम जारी होने के एक दिन बाद बाजार में तेजी के कारण बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का बाजार सूचकांक 12 लाख करोड़ बढ़कर 407 लाख करोड़ हो गया है. बुधवार का सत्र मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों के लिए भी शानदार रहा.

share market

शेयर बाजार का रूख

Bombay Stock Exchange: भारतीय शेयर बाजार के लिए बुधवार का कारोबारी सत्र शानदार रहा। एनडीए की स्थिर सरकार की उम्मीद के कारण बाजार के सभी सूचकांक हरे निशान में बंद हुए हैं। सेंसेक्स 2,303 अंक या 3.20 प्रतिशत की तेजी के साथ 74,382 अंक और निफ्टी 735 अंक या 3.36 प्रतिशत की तेजी के साथ 22,620 अंक पर बंद हुआ है।

बैंकिंग स्टॉक्स में भी जबरदस्त तेजी हुई है। निफ्टी बैंक 2,126 अंक या 4.53 प्रतिशत की तेजी के साथ 49,054 अंक पर बंद हुआ है।

share market

बाजार सूचकांक 12 लाख करोड़ बढ़कर 407 लाख करोड़ हो गया

बाजार में तेजी के कारण बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का बाजार सूचकांक 12 लाख करोड़ बढ़कर 407 लाख करोड़ हो गया है। बुधवार का सत्र मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों के लिए भी शानदार रहा।

निफ्टी मिडकैप 100 इंडेक्स 2,115 अंक या 4.3 प्रतिशत की तेजी के साथ 51,266 अंक और निफ्टी स्मॉलकैप 100 इंडेक्स 597 अंक या 3.81 प्रतिशत की तेजी के साथ 16,289 अंक पर बंद हुआ है। बाजार में उतार-चढ़ाव दर्शाने वाला इंडिया विक्स 29 प्रतिशत की गिरावट के साथ करीब 19 अंक पर बंद हुआ। सेक्टर के हिसाब से देखें तो 5 प्रतिशत से अधिक की तेजी के साथ मेटल टॉप गेनर था।

एफएमसीजी, फिन सर्विस, ऑटो, रियल्टी और निजी बैंक इंडेक्स 5 प्रतिशत की बढ़त के साथ बंद हुए हैं।

निवेशकों को मोमेंटम वाले और ऐसे शेयरों से दूर रहना चाहिए

डिजर्व के सह संस्थापक वैभव पोरवाल का कहना है कि मौजूदा स्थिति में निवेशकों को मोमेंटम वाले और ऐसे शेयरों से दूर रहना चाहिए, जो कि काफी ज्यादा चले हुए हैं। अगर बाजार एक सीमित दायरे में कारोबार करता है तो इसमें बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है। उन्होंने कहा कि अगर बाजार के फंडामेंटल में बिना कुछ बदले गिरावट होती है तो निवेशकों को इसे एक अवसर के रूप में देखना चाहिए और नई पूंजी निवेश करने के लिए इसका फायदा उठाना चाहिए।

यह भी पढ़िए: NDA Vs I.N.D.I.A: BJP की सीटें घटने पर शेयर बाजार में आई 4 साल की सबसे बड़ी गिरावट, निवेशकों के 44 लाख करोड़ रुपये डूबे

— भारत एक्सप्रेस

Bharat Express Live

Also Read

Latest